खान विभाग पर अवैधानिक पेनल्टी लगा लीज धारियों को परेशान करने का आरोप

0

पेनल्टी को रद्द करने की मांग लीज धारियो ने मुख्यमंत्री के नाम दिया ज्ञापन
खबर ऑफ़ इंडिया
रियांबड़ी में गुरुवार को तहसीलदार रामकिशोर जांगिड़ को रिया बड़ी के बजरी लीज धारियों ने सामूहिक रूप से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया ।बजरी लीजधारी घनश्याम खालिया महेंद्र जाजड़ा कैलाश कलवानिया दिनेश यादव ने ज्ञापन देने के दौरान बताया कि खान विभाग द्वारा अवैध रूप से बजरी लीज धारियों पर पेनल्टी लगाई गई है जो गलत है। खान विभाग द्वारा लगाई गई उक्त अवैध पेनल्टी को मुख्यमंत्री द्वारा तुरंत रद्द किया जाए इस मांग को लेकर ज्ञापन दिया गया। बजरी लीज धारियों ने बताया कि
रियांबडी उपखण्ड मे खातेदारी की भूमि मे अलग अलग खातेदारी की बजरी लीज सरकार द्वारा स्वीकृत है. खातेदारी की बजरी लीज मे ग्रेवीटी 1.60 के लगभग है. माईनिंग विभाग द्वारा 2.25 मानते हुवे बजरी लीजो पर पेनल्टी लगा कर रियां बड़ी उपखंड के बजरी लीजो को बन्द कर दिया है। लीज़ धारकों का कहना है कि कुछ लीज 1.60 ग्रेवीटी होने के बावजूद चल रही है पर विभाग की मनमानी से उपखंड में लगभग 44 बजरी लीजो को पलेंटी लगा बन्द कर दी है।जबकि इन लीजो की कोई पेनल्टी नही बनती है । क्योंकि विभाग द्वारा ग्रेवीटी की कई बार जांच की गई । जिसमे भी उक्त लीजो की ग्रेवीटी 1.60 के लगभग आती है परन्तु विभाग की मनमानी के चलते । लीजो को माईनिंग प्लान के 2.25 के अनुसार ग्रेवीटी मानते हुवे पेनल्टी लगा दी है । भौतिक सत्यापन मे भी उक्त लीजो की ग्रेवीटी 1.60 के लगभग माना है व इसके अलावा भी लीज धारियों ने ग्रेविटी के लिए अन्य प्रमाण है ज्ञापन में बताए है जिसमे
एल.ओ.आई हॉल्डर मेघराज सिंह का लूणी नदी मे क्षेत्रफल 426 हैक्टेयर का एससेमेन्ट दिनांक 4.3.17 को किया गया । जिसमे डेनसिटी/ग्रेवीटी 1.60 मानी गई है।
खनिज अभियन्ता गोटन के तकनीकी कर्मचारीयों द्वारा दिनांक 16 जून.2020 को वैज्ञानिक रूप से जांच की गई । जिसकी डेनसिटी/ग्रेवीटी 1.60 पाई गई।
एल.एल. 47/2019 निकट ग्राम आलनियावास मे भी दो ए.एम.ई की टीम के द्वारा दिनांक 1फ़रवरी2021 को वैज्ञानिक जांच मे भी 1.60 डेनसिटी/ग्रेवीटी मानी
ए.डी.एम.उदयपुर खान विभाग,उदयपुर के न्यायालय द्वारा अपील संख्या 211/2020 मैसर्स कृष्णा प्रोपर्टी डिलिंग कम्पनी एम.एल नं. 47/2019 मे भी
निर्णित कर डेनसिटी/ग्रेविटी 1.60 मानते हुवे पेनल्टी निरस्त भी की गई थी । परन्तु शेष 44 बजरी लीजो मे डेनसिटी/ग्रेवीटी 2.25 मानते हुवे पेनल्टी रोयल्टी की 10 गुणा मानते हुवे नियत कर पट्टाधारियो के ऑनलाईन ही चढा दी है जो नियम विरूद्ध है । जबकि विभाग इस क्षेत्र मे खुद डेनसिटी/ग्रेवीटी 1.60 मान रहा है । इस प्रकार सभी बजरी लीजे दिनांक 28.अगस्त से बन्द है
बजरी की लेस बंद होने से अवैध खनन धड़ल्ले से खुल्ले आम चल रहा है । इन सब कारणों के चलते खातेदारी भूमि मे स्थित बजरी लीजो की पेनल्टी को रद्द करवाने की मांग ली धारियों ने की है।
बजरी लीज धारियों ने बताया कि उक्त वाजिब मांग अगर सरकार द्वारा नहीं मानी जाती है तो सात दिवस के बाद रियांबडी उपखण्ड की खातेदारी के बजरी लीज धारक किसानो के द्वारा अनिश्चितकालीन धरना उपखण्ड कार्यालय रियांबडी के सामने दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here